Raw Full Form

Raw Full Form क्या होती है तथा यह क्या है

Raw Full Form क्या होती है तथा Raw क्या है तथा इसका क्या कार्य है इन जैसे सभी सवालों के जवाब आपको इस पोस्ट में मिलने वाले हैं तो आप इस पोस्ट को शुरू से आखरी तक पूरा पड़ेगा तभी आप लोगों को समझ में आएगा Raw के बारे में ।

आपने जरूर कभी ना कभी किसी के मुंह से जरूर सुना होगा Raw शब्द को तो आज हम आपको रॉक के बारे में ही बताने वाले हैं तो चलिए सबसे पहले इस की फुल फॉर्म जानते हैं

Raw full form :-

Raw ki full form होती है Research and analysis Wing

Raw क्या है?

ऊपर हमने Raw full form के बारे में जाना अब हम जानते हैं कि raw क्या होती है?
Raw भारत की खुफिया एजेंसी है भारत की खुफिया एजेंसी raw को पूरी दुनिया में सर्वश्रेष्ठ खुफिया एजेंसियों में गिना जाता है

यह खुफिया एजेंसी समय-समय पर अपनी महत्वपूर्ण जानकारियों को भारत सरकार को देती है जिसके कारण हमारा देश और हमारे देश में रहने वाले सभी लोग सुरक्षित रहते हैं हमारे देश की खुफिया एजेंसी आतंकवादी गतिविधियों की जानकारी भारत सरकार को समय-समय पर देती रही है

जिसके बात से भारत सरकार के द्वारा ऐसे कदम उठाए जाते हैं जिससे हमारे देश की सुरक्षा काफी ज्यादा बढ़ गई और हमारे देश बहुत ज्यादा सुरक्षित भी हो गया इसके साथ ही परमाणु हथियारों की जानकारी को भी खुफिया रखने का काम raw का ही रहता है|

Raw को बनाने की आवश्यकता क्यों पड़ी ?

Raw के गठन होने से पहले भारत में एक एजेंसी थी जिसका नाम intelligence ब्यूरो था 1962  मैं भारत और चीन के मध्य युद्ध हुआ था जिसमें भारत की हार हुई थी इस हार का कुछ कारण यह भी है कि भारत की intelligence ब्यूरो अच्छी तरह से अपना कार्य नहीं कर सकी थी

जिसकी वजह से हमें भारत और चीन के युद्ध के बीच भारत को हार का सामना करना पड़ा था इसके बाद भारत सरकार को एक ऐसी संस्था की जरूरत थी जो समय समय पर विदेशों में या फिर देश के अंदर होने होने वाली होने वाली ऐसी गतिविधियां जैसे आतंकवादियों की गतिविधियां और अन्य देशों की सारी महत्वपूर्ण जानकारी जिससे हमारे देश को हानि न पहुंच सके उन सभी जानकारियों को इकट्ठा कर के भारत सरकार को यह सारी जानकारी खुफिया तरीके से दे सके जिससे देश की डिफेंस सिस्टम काफी मजबूत हो सके हमारा देश सुरक्षित बना रहे इसलिए भारत की खुफिया एजेंसी raw को बनाया गया|

Raw गठन से पहले अन्य देशों की जानकारी को जमा करके भारत सरकार को देने का काम intelligence ब्यूरो का था|

Intelligence ब्यूरो संस्था को क्यों हटाया गया?

भारत व चीन के मध्य जब युद्ध हुआ था तब हमको ऐसी जानकारियों की जरूरत थी जिस जानकारी हम चीन को युद्ध में हरा सकते थे परंतु हमारी intelligence ब्यूरो नाम की जो खुफिया संस्था थी वह यह सारी जानकारी भारत सरकार को अच्छे से नहीं दे पाई थी

जिसकी वजह से हम युद्ध में कुछ कमजोर पड़ गए थे यही कारण था  जिसकी वजह से  intelligence ब्यूरो को  हटा करके  उसकी जगह पर  नई खुफिया एजेंसी  raw  का  गठन किया गया था |

Raw का गठन कब किया गया था?

1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के बाद थल सेना के सचिव ने भारत सरकार को यह बताया कि हम हैं और अधिक जानकारी चाहिए जिसके बाद 1968 में इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्री बनने के बाद यह निश्चय किया गया कि हमें एक ऐसे संस्था की आवश्यकता है

Read Now :Pnr की full form क्या होती है pnr क्या होता है ?

जो समय समय पर बहुत सारी महत्वपूर्ण जानकारी भारत सरकार को दे तब भारत की खुफिया एजेंसी raw का गठन किया गया और raw के प्रथम चीफ R N KAO को बनाया गया शुरू में RAW में कार्य करने वाले लोगों की संख्या 240 थी परंतु धीरे धीरे समय के साथ इनमें काम करने वाले लोगों के संख्या को भी बढ़ाया गया|

RAW के द्वारा किए गए कुछ बहुत बड़े महत्वपूर्ण कार्य

भारत की खुफिया एजेंसी के द्वारा बहुत सारे महत्वपूर्ण कार्य किए गए परंतु हम कुछ कार्यों को जानेंगे जैसे:- 1972 में सिक्किम को भारत का हिस्सा बनाने में RAW की सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण भूमिका थी|

raw को भारत के प्रथम परमाणु हथियार के प्रयोग की जानकारी को खुफिया रखने का कार्य भी दिया गया था| जिसे भारत की खुफिया एजेंसी raw ने बहुत अच्छे तरीके से निभाया था| raw ने ऑपरेशन मेघदूत में भी बहुत अहम भूमिका निभाई गई थी और ऑपरेशन को successful बना था|

आज हमने  raw full form के बारे में जाना और इसका गठन क्यो किया गया और कब किया गया raw के द्वारा किये गए कुछ महत्वपूर्ण कार्य| उम्मीद करते हैं हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी होगी अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें|

Leave a Comment