Mouse full form in hindi

Mouse full form in hindi क्या होती है? माउस का क्या काम होता है

Mouse full form in hindi क्या होती है? माउस का क्या काम होता है माउस कितने टाइप के होते हैं और माउस के मुख्य पार्ट कौन-कौन से होते हैं?

Mouse full form in hindi :-

Mouse  की full form अंग्रेजी में Manually operated utility selecting equipment होती है माउस की हिंदी में फुल फॉर्म मैन्युअल संचालित उपयोगिता चयन उपकरण होती है

ऊपर हमने mouse full form के बारे में जाना अब हम ओर जानते है माउस के बारे मे
माउस एक इनपुट डिवाइस होता है जिसकी मदद से हम मॉनिटर पर दिखने वाले प्वाइंटर को इधर से उधर अपनी आवश्यकता के अनुसार ड्रैग करते हैं

और आवश्यकता अनुसार माउस का उपयोग करते हैं माउस का उपयोग मेनु पर क्लिक करने के लिए किया जाता है माउस मैनुअल या हस्तचालित डिवाइस होता है माउस कंप्यूटर का  मुख्य पार्ट होता है हमें अपने कंप्यूटर में क्या कार्य करना है वह माउस के द्वारा ही सारे instruction को माउस के द्वारा देते हैं इंस्ट्रक्शन देने के बाद कंप्यूटर वह कार्य करता है

माउस का अविष्कार कब किया गया था?

माउस का अविष्कार 1968 में किया गया था|

अब हम जानते हैं-

माउस के मुख्य पार्ट्स कौन-कौन से होते हैं?

आज के मुख्य 4 पार्ट होते है

1- left और right button
2- wheel
3- track ball या लेसर
4- wire या फिर usb port

1- left या right button:-आपने देखा होगा माउस में right और left बटन  होते हैं जिन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने option के विंडो खुल जाती है left बटन का प्रयोग किसी भी फाइल या फोल्डर पर क्लिक करके open करने के लिए किया जाता है और right button का उपयोग क्लिक करके उसकी properties और अन्य चीजें करने के लिए किया जाता है और आप कंप्यूटर को insturction देते हैं|

2- wheel:- पेज को स्क्रोल करने के  का काम करता है या नहीं अगर आपको पेज को ऊपर करना है या फिर नीचे करना है उसके लिए हम wheel का उपयोग करते हैं|

3- track ball :-यह माउस के नीचे की तरफ एक बॉल होती है जिसे हम माउस को एक plane surface पर रखकर ड्रैग करते हैं जिससे मॉनिटर में show होने वाला कर्सर भी उसी दिशा में ड्रैग होने लगता है

Read Now :- SSLC Full Form in Hindi – SSLC क्या है

परंतु अब नए प्रकार के माउस बाजारों में आने लग गए हैं जिसमें ट्रैकबॉल के जगह पर लेजर या लाइट का उपयोग करते हैं लेजर माउथ माउस की काम करने की उसकी की accuracy और speed track ball वाले माउस की तुलना में ज्यादा होती है|

4- wire या फिर usb port:-
माउस हमारे दो typs के होते हैं 1-wireless mouse 2-wire mouse होता है wire माउस में एक wire लगा होता है जिसके दूसरे सिरे पर एक usb port दिया गया होता है जिसे हम की-बोर्ड में connect करते हैं जिसके बाद हम mouse के द्वारा काम कर सकते हैं

माउस के कितने प्रकार होते हैं

1- मैकेनिकल माउस – यह वह माउस होते हैं जिन के निचले भाग पर रबड़ की बॉल लगी होती है जब हम माउस को किसी सतह पर रखकर इधर से उधर घुमाते हैं तब मॉनिटर पर दिखने वाला प्वाइंटर भी उसी दिशा में घूमने लगता है इस प्रकार के माउस को मैकेनिकल माउस कहते हैं|
इस प्रकार के माउस में हमें समय समय के साथ इसकी सफाई की जरूरत पड़ती है|

2-ऑप्टिकल माउस – इस प्रकार के माउस में नीचे की तरफ एक लेजर या फिर एक लाइट लगी होती है और वहीं पर एक सेंसर भी लगा होता है जब हम माउस को इधर उधर हिलाते हैं तब वह सेंसर उस चीज को सेंस करके कार्य करने की information कंप्यूटर को देता है|

Read Now :- Love Calculator

3-wireless या कॉर्डलेस माउस- इस प्रकार के माउस में वायर या तार नहीं होता है यह रेडियो फ्रीक्वेंसी की सहायता से कंप्यूटर को information देता है और कार्य करता है|

ऊपर हमने Mouse full form in hindi के बारे में पढ़ा और माउस कितने प्रकार के होते हैं माउस के मुख्य पार्ट कौन कौन से होते हैं और माउस का क्या कार्य होता है इन सभी के बारे में हमें ऊपर पड़ा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तब अपने दोस्तों के द्वारा या अपने दोस्तों को जरूर शेयर करेंl

Leave a Comment